Thursday, October 28, 2021
HomeBenefits in HindiAnulom Vilom Benefits In Hindi : अनुलोम-विलोम करने के फायदे और...

Anulom Vilom Benefits In Hindi : अनुलोम-विलोम करने के फायदे और नुकसान

- Advertisement -

आज हम Anulom Vilom Benefits In Hindi के बारे में बता रहे है हर व्यक्ति खुद को स्वास्थ्य रखने के लिए कई प्रकार के योग आदि करता है व अनुलोम विलोम भी इसी प्रकार का होता है व कई योगगुरु का मानना है की अकेले अनुलोमं विलोम से शरीर को कई प्रकार के फायदे होते है व यह कई सारी बीमारियों से बचाव करने में सहायक होता है अनुलोम विलोम से जुडी जानकारी के लिए आप हमारा यह आर्टिकल  ध्यान से पढ़े

Anulom Vilom Benefits In Hindi

- Advertisement -

यह एक  नाड़ी शोधन प्राणायाम के सभी प्राणायामों में सबसे मुख्य प्राणायाम माना जाता है कई विशेषज्ञ ने यह माना है इस प्राणायाम को करने से कई दिव्या परिणाम मिलते है व इस प्राणायाम को प्रतिदिन किया जाए तो ऐसे में यह शरीर के सभी नाड़ियो को शुद्ध कर देता है व यह शरीर में ऑक्सीजन लेवल को बढ़ाने में भी बहुत ही मददगार होता है अनुलोम विलोम के फायदे के बारे में हम आपको Anulom Vilom Benefits In Hindi इस आर्टिकल में बता रहे है जिससे की आपको इसके बारे में पूरी जानकारी यहां पर प्राप्त हो सके

Anulom Vilom Benefits In Hindi

अनुलोम विलोम के कई सारे फायदे है इसके सब फायदों के बारे में बताना काफी मुश्किल कार्य हो सकता है अगर आप अनुलोम विलोम करते है तो इससे आपका ऑक्सीजन लेवल बढ़ता है व इससे रोगप्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है जिससे की बीमारियों से हमारी  रक्षा होती है एवं यह हमारे शरीर के नाड़ियो को भी स्वस्छ रखता है और इसे करने वाले लोगो को उम्र और शक्ति में भी वृध्दि होती है पर यह प्रतिदिन प्रातकाल में करना अधिक फ़ायदेमदं होता है

अनुलोम-विलोम फेफड़ो को मजबूत करता है

अनुलोम विलोम करने से संबसे ज्यादा असर आपके फेफड़ो पर पता है व यह आपके फेफड़ो में से जहरीली गैस को बहार निकलकर उन्हें स्वास्थ्य बनाने का कार्य करता है व प्रतिदिन अनुलोम विलोम करने से फेफड़े शक्तिशाली और मजबूत बनते है कई बार धूम्रपान के कारण फेफड़े बेहद ही कमजोर हो जाते है जो की कई बीमारियों का घर बन जाते है पर अगर आप धूम्रपान छोड़कर इसे करते है तो आप वापिस अपने फेफड़ो को पहले की तरह दुरस्त कर पाएंगे

अनुलोम-विलोम ऑक्सीजन लेवल बढ़ाता है

बेहतर स्वास्थ्य के लिए ऑक्सीजन लेवल बहुत ही महत्वपूर्ण होता है आप प्रतिदिन अनुलोम विलोम करते है तो इससे खून में ऑक्सीजन लेवल बढ़ता है व इसके साथ ही यह शरीर में मौजूद 72 हजार नाड़ियो को भी शुद्ध  करता है जिससे शरीर को एक नयी ऊर्जा की प्राप्ति होती है व किसी व्यक्ति को हाई ब्लड प्रेशर की समस्या है तो वो भी इससे कण्ट्रोल में जाती है

अनुलोम विलोम से हार्ट दुरुस्त रहता है

अनुलोम विलोम से रक्त में ऑक्सीजन  लेवल बढ़ने के साथ ही फेफड़े स्वास्थ्य होते है व नाड़िया शुद्ध होती है इस वजह से हार्ड भी दुरुस्त रहता है व  लोगो को हार्ट से जुडी बीमारी हो उनके लिए अनुलोम विलोम एक रामबाण इलाज की तरह होता है जो की हार्ट अटैक जैसे खतरों को भी कम कर देता है

अनुलोम विलोम से सांस से जुडी समस्या दूर होती है

सांस से जुडी समस्या अक्सर फेफड़ो के कारण होती है व अनुलोम विलोम करने से किसी व्यक्ति को सांस से जुडी समस्या जैसे साँस लेने में कठिनाई होना या जोर जोर से सांस लेना आदि से जुडी परेशानी है तो वो इससे दूर हो जाती है व ऑक्सीजन सही तरीके से फेफड़ो तक पहुँचती है

अनुलोम विलोम से तनाव कम होता है

तनाव, चिड़चिड़ापन, घबराहट, डिप्रेशन, नींद न आना यह सभी समस्या शरीर में रक्त का प्रवाह सही तरीके से न होने के कारण होती है प्रतिदिन अनुलोम विलोम करने से शरीर में रक्त का प्रवाह सही तरीके से होता है व इससे निम्न प्रकार की समस्याओ से भी छुटकारा मिलता है व मन को शांति प्राप्त होती है

अनुलोम विलोम से दिमाग तेज होता है

अगर किसी व्यक्ति की याददास्त कमजोर है या उसे कुछ याद नहीं रह पाता तो उसके लिए अनुलोम विलोम बहुत ही उपयोगी होता है व इससे दिमाग का दाया और बाया हिस्सा सही तरीके से काम कर पाता है व इससे  सोचने समझने की शक्ति बढ़ती है

अनुलोम विलोम से रक्त साफ़ होता है

किसी व्यक्ति  को रक्त से जुडी कोई परेशानी हो तो वो भी प्रतिदिन अनुलोम विलोम कर सकते है इससे रक्त साफ़ होता है व रक्त में से विषैले तत्व नष्ट हो जाते है जिससे की इसका प्रवाह शरीर में सही तरीके से हो पाता है

अनुलोम विलोम से  आँखों की रोशनी बढ़ती है

किसी व्यक्ति की नजर कमजोर है तो उस व्यक्ति को अनुलोम विलोम करना चाहिए इससे ब्‍लड सर्कुलेशन ठीक होता है व प्रतिदिन इस प्राणायाम को करने से आँखों को काफी फायदा होता है व आखो की रोशनी भी बढ़ने लगती है

अनुलोम विलोम से इम्युनिटी बढ़ती है

छोटी बड़ी बिमारी जैसे की सर्दी जुकाम या अन्य वाइरल और मौसमी बिमारी इम्युनिटी कमजोर होने से होती है अगर आप इस प्राणायाम को करते है तो इससे शरीर में इम्युनिटी बढ़ने लगती है व इस कारण से हम कई प्रकार की छोटी बड़ी बीमारियों से भी बचे रहते है

अनुलोम विलोम करते वक्त सावधानी

अनुलोम विलोम करते वक्त कुछ बातो को ध्यान में रखना जरुरी है ताकि आपको इसके बेहतर परिणाम प्राप्त हो सके व इसके लिए आप निम्न तरीके अपना सकते है

  • इस प्राणायाम को हमेशा खाली पेट करना चाहिए
  • इस  प्राणायाम में आप उतनी देर तक सांस रोकने का प्रयत्न करे जब तक आप समर्थ हो
  • किसी व्यक्ति को सांस से सम्बंधित समस्या जैसे अस्थमा आदि हो तो वो इस प्राणायाम को न करें
  • हार्ट रोगी को इस  प्राणायाम को नहीं करना चाहिए
  • प्रतिदिन प्रातकाल में इस प्राणायाम को करना अधिक फलदायक होता है
  • स्वच्छ और साफ जगह पर ही इस प्राणायाम को करें

प्राणायाम करते वक्त आपको निम्न बातो को ध्यान में रखना चाहिए व इस प्राणायाम को करने से पहले एक बार किसी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य ले ताकि आपको बादमे किसी भी प्रकार की परेशानी का सामनां न करना पड़े व इससे आपको बेहतर परिणाम देखने को मिल सके

Calculation – इस आर्टिकल में हमने आपको Anulom Vilom Benefits In Hindi से जुडी जानकारी दी है व इस प्राणायाम को करते वक्त क्या सावधानी  रखनी चाहिए इसके बारे में बताया है हमे उम्मीद है की आपको हमारी बताई जानकारी उपयोगी लगी होगी अगर आप इसी जुड़ा किसी भी तरह का सवाल पूछना चाहे तो आप हमे कमेंट कर सकते है व जानकारी अच्छी लगे तो इसे सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करें

- Advertisement -

Related Articles

Leave A Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Articles