Thursday, December 2, 2021
HomeBenefits in HindiBhujangasana Benefits In Hindi : भुजंगासन करने के फायदे और नुकसान

Bhujangasana Benefits In Hindi : भुजंगासन करने के फायदे और नुकसान

- Advertisement -

आज हम आपको Bhujangasana Benefits In Hindi के बारे में बता रहे है योग के क्षेत्र में भुजंगासन का बहुत ही बड़ा महत्व होता है व यह आसान आपको कई तरह की बीमारियों से बचाने में मदद करता है इसके फायदे की बात करे तो इसके जितने फायदे बताये जाए उतने कम है अगर आप इस आसन को करना चाहते है तो इससे पहले आपको कुछ बातो को ध्यान में रखना जरुरी है व इसके बारे में हम आपको बता रहे है आप इन बातो को ध्यान में रखकर इस आसन से बेहतर लाभ प्राप्त कर सकते है.

Bhujangasana Benefits In Hindi

- Advertisement -

भुजंगासन का नाम भुजंग शब्द के कारण पड़ा है व भुजंग का अर्थ होता है सांप का फन अर्थात आप जब इस आसन को करते है उस वक्त आप फन फैलाये सांप की मुद्रा में होते है व इस आसान को करने से कई तरह के अलग अलग फायदे भी होते है जिसके कारण ज्यादातर लोग इस आसन को करना पसंद करते है Bhujangasana Benefits In Hindi में हम आपको इसके सभी फायदों के बारे में विस्तृत जानकारी देने वाले है.

Bhujangasana Benefits In Hindi

भुजंगासन करने से होने वाले फायदे के बारे में बताने से पहले हम आपको इस आसन को करने के तरीके के बारे में बता देते है ताकि आप आसानी से इस आसन को कर सके इसके लिए आपको यह तरीका अपनाना होता है.

  • सबसे पहले आपको पेट के बल लेट जाना है.
  • अब आप पैर के तलवो को छत की तरफ कर ले.
  • उसके बाद आप अपनी बाजुओं को धड़ की लम्बाई में सीधे कर ले.
  • इसके बाद आपको अपने हाथो को अपने सर के पास रखना है.
  • अब आप अपने हाथो पर वजन डाले और छाती को धीरे धीरे ऊपर उठाये साथ में ध्यान रखे की पेट के निचे का हिस्सा जमीन से ऊपर नहीं उठना चाहिए.
  • आपको अपने पैरो की उंगलियों के बल ही टिका रहना है और पीठ को थोड़ा मोड जितना आप मोड़ सके व ध्यान रखे की जबरदस्ती अपनी क्षमता से अधिक कभी न मोड.
  • अब आप पांच से छः बार सांस अंदर ले और बाहर छोड़े.

इस प्रकार से आप भुजंगासन कर सकते है व अगर आपको यह विधि समझ में नहीं आती तो आप इसके इंटरनेट पर वीडियो देखकर समझ सकते है एवं इस आसन को करने से पहले किसी विशेषज्ञ की सलाह जरुर ले और एक बात ध्यान रखे की यह प्रातकाल करना अधिक फायदेमंद होता है व साफ़ और स्वछ जगह पर ही इस आसन को करे इससे आपको ज्यादा लाभ मिलेगा.

पेट कम करने में भुजंगासन के फायदे

बहुत से लोग मोटापे के शिकार होते है और उनका पेट तेजी से बढ़ने लगता है ऐसी स्थिति में आप मे इस योग को कर सकते है इस योग को करने से आपका पेट तेजी से कम होने लगेगा पेट कम करने और वजन घटाने में इसके विशेष फायदे होते है अगर आप प्रतिदिन इस आसन को करते है तो कुछ ही दिनों में आपको इसके बेहतर परिणाम दिखने शुरू हो जाते है.

फेफड़ो को मजबूत करने में भुजंगासन के फायदे

किसी व्यक्ति को फेफड़ो से जुडी समस्या है तो उनके लिए भी भुजंगासन बहुत ही लाभदायक होता है इस आसन को करने से आपके फेफड़े मजबूत होते है और फेफड़ो से जुडी बीमारिया भी दूर होती है इसके साथ ही किसी व्यक्ति को सांस लेने से जुडी छोटी बड़ी समस्या है तो उसमे भी भुजंगासन करने से लाभ मिलता है.

शरीर में लचीलापन लाने में भुजंगासन के फायदे

कई लोग ऐसे होते है जिनके शरीर में लचीलापन नहीं होता इस कारण से लोगो को काम करने में कई तरह की परेशानी होने लगती है पर भुजंगासन एक ऐसा आसन है जिसको करने से आपके शरीर में लचीलापन आने लगता है और जोड़ो का दर्द, बदनदर्द व कमर के दर्द में भी आपको राहत मिलती है यह आसन हड्डियों को मजबूत करने के लिए विशेष उपयोगी माना गया है.

रीढ़ की हड्डी के लिए भुजंगासन के फायदे

रीढ़ की  हड्डी शरीर के लिए कितनी महत्वपूर्ण है इसके बारे में तो आप सब जानते ही होंगे व अगर आप अपने शरीर की हड्डियों को मजबूत करना  चाहते है या उसमे लचीलापन  लाना चाहते है तो आपको इस आसन को करना चाहिए इससे आपकी रीड की हड्डी में काफी फायदा देखने को मिलेगा और रीढ़ की हड्डी मजबूत होने लगती है.

किडनी व लिवर के लिए भुजंगासन के फायदे

प्रतिदिन भुजंगासन करने से शरीर में रक्त का संचार बढ़ता है इसके साथ ही किडनी और लिवर से जुडी समस्या भी दूर होती है किसी व्यक्ति को गैस, कब्ज और अपच से जुडी समस्या है तो इस आसन को करने से लाभ मिलेगा व इस आसन से शरीर में रक्त संचार बढ़ता है इससे शरीर कई प्रकार की बीमारियों से भी बचा रहता है.

तनाव मुक्ति के लिए भुजंगासन के फायदे

तनाव मुक्त रहने के लिए भी इस आसन के कई फायदे होते है अक्सर बहुत से लोग तनाव से मुक्त रहने के लिए इस आसान को करते है आप अगर हमेशा तनाव में रहते है या आपको किसी प्रकार का तनाव हो तो ऐसी स्थिति में आपको इस आसन को करना चाहिए इससे तनाव कम होगा.

भुजंगासन करने से पूर्व प्रणामआसन, हस्तउतान्नासन, पादहस्तासन, अश्वसंचालासन, पर्वतासन और अष्टांग नमस्कार आदि किये जाते है व आपको भुजंगासन करने से पूर्व किसी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य ले लेनी चाहिए व उनकी सलाहनुसार ही इस आसन को करना चाहिए ताकि आपको इस आसन को  करने से किसी प्रकार की समस्या न हो और आपको इसके बेहतर परिणाम प्राप्त हो सके.

Calculation – इस आर्टिकल में हमने आपको Bhujangasana Benefits In Hindi के बारे में जानकारी दी है हमे उम्मीद है आपको यह जानकारी उपयोगी लगी होगी अगर आपको जानकारी अच्छी लगे तो इसे सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करें और भुजंगासन से जुड़ा किसी तरह का सवाल पूछना चाहे तो आप कमेंट के द्वारा बता सकते है.

- Advertisement -

Related Articles

Leave A Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Articles