Wednesday, May 18, 2022
HomeBenefits in HindiChandraprabha Vati Benefits In Hindi : चंद्रप्रभा वटी के फायदे और नुकसान

Chandraprabha Vati Benefits In Hindi : चंद्रप्रभा वटी के फायदे और नुकसान

- Advertisement -

नमस्कार मित्रो आज हम आपको Chandraprabha Vati Benefits In Hindi के बारे में बताने वाले है अक्सर आपने चन्द्रप्रभा वटी के बारे में सुना होगा पर इसका इस्तमाल करने से पहले इससे जुडी जानकारी होनी बेहद ही आवश्यक है अगर आपको इसके फायदे नुकसान और इस्तमाल करने के सही तरीके के बारे जानकारी होगी तो ही आप इसका बेहतर  तरीके से इस्तमाल कर पाएंगे

Chandraprabha Vati Benefits In Hindi

- Advertisement -

चन्द्रप्रभा वटी कई अलग अलग कारणों से हमारे लिए फायदेमंद मानी जाती है अगर आप इसका इस्तमाल करते है तो  इससे आपको कई अलग अलग लाभ हो सकते है इसमें कई बीमारियों से लड़ने की शक्ति होती है जिसके कारण इसके उपयोगकर्ताओं की सख्यां हर दिन बढ़ती जा रही है Chandraprabha Vati Benefits In Hindi आर्टिकल में हम आपको चन्द्रप्रभा वटी से जुडी विस्तृत जानकारी बताने वाले है

Chandraprabha Vati Benefits In Hindi

Table of Contents

आयुर्वेद में चन्द्रप्रभा बहुत ही उपयोगी वटी मानी गयी है इसके नाम से ही इसके गुणों का पता चल जाता है चंद्र का अर्थ है चन्द्रमा और प्रभा का अर्थ होता है चमक यानी की इस वटी के सेवन से शरीर में चन्द्रमा जैसी चमक और बल पैदा होता है जो शारीरिक कमजोरी से जुडी किसी भी तरह की बीमारी से लड़ने में सहायता करता है अगर आप इसका सेवन करते है तो इससे आपको निम्न फायदे हो सकते है

मधुमेह में चन्द्रप्रभा के फायदे

जो लोग मधुमेह की समस्या से पीड़ित है उनके लिए चन्द्रप्रभा बहुत ही उपयोगी साबित होता है मधुमेह में इसे रामबाण इलाज की तरह माना जाता है इसके सेवन से यह मधुमेह अर्थात डाइबिटीज को कंट्रोल में रखने में सहायता करता है जिससे मरीज को इसमें राहत मिलती है

किडनी से जुडी समस्या में  चन्द्रप्रभा के फायदे

किडनी हमारे शरीर का बहुत ही उपयोगी भाग होता है उसके ख़राब होने से मूत्र से संबधित समस्या उत्पन्न होने लगती है इसके साथ ही अन्य कई तरह की बीमारिया होने का खतरा भी बना रहता है अगर मूत्र से जुडी कोई समस्या हो जैसे मूत्र में जलन होना, पेडू में जलन, मूत्र त्याग करते वक्त अधिक जलन होना, मूत्र का रंग लाल होना निम्न तरह की परेशानी होने पर चन्द्रप्रभा वटी बहुत ही फायदेमंद साबित होती है

चन्द्रप्रभा वटी के सेवन से यह गुर्दो की कार्यक्षमता को  बढ़ाने में मदद करती है और शरीर को फ़िल्टर करने का कार्य करती है इसके साथ ही यह शरीर से बढे हुए यूरिक एसिड एवं यूरिया जैसे तत्व को बाहर निकालने में भी सहायक होती है जिन्हे किडनी से जुडी समस्या है उन्हें किसी आयुर्वेदाचार्य की सलाह लेकर ही इसका इस्तमाल करना चाहिए

मूत्र विकार में चन्द्रप्रभा वटी के फायदे

जिन लोगो को मूत्र से सम्बंधित किसी प्रकार की समस्या है जैसे कम मूत्र आना, मूत्र रुक रुक कर आना, मूत्र त्यागते वक्त जलन महसूस होना, मूत्र त्याग करते वक्त दर्द महसूस होना, मूत्राशय में सूजन आदि आना इस स्थिति में चन्द्रप्रभा वटी लेने से आपको इस तरह की समस्या से तुरंत राहत मिलती है

स्मरण शक्ति बढ़ाने में चन्द्रप्रभा वटी के फायदे

कई लोगो को बार बार भूलने की आदत होती है जो समय के साथ बढ़ती जाती है व इस तरह की आदत कई बार बहुत ही खतरनाक साबित हो सकती है अगर किसी की स्मरण शक्ति कमजोर हो तो उसे इस तरह की समस्या  हो सकती है पर चन्द्रप्रभा वटी  का सेवन करने से आपकी  स्मरण शक्ति बढ़ती है व आप किसी भी बात या चीज को लम्बे समय तक याद रखने में सक्षम हो जाते है व अगर आप पढ़ाई करते है तो स्मरण शक्ति तेज होने से आपको पढ़ा हुआ जल्दी याद हो जाता है

शारीरिक शक्ति बढ़ने में चन्द्रप्रभा वटी के फायदे

शारीरिक कमजोर दूर करने के कई अलग अलग तरीके है पर चन्द्रप्रभा वटी का सेवन बहुत ही अच्छा और असरदार तरीका है यह शरीर की दुर्बलता को दूर करता है और शरीर को ऊर्जा प्रदान करता है अगर किसी व्यक्ति को शारीरिक कमजोरी है तो वो इसका निर्देशानुसार सेवन कर सकता है इससे उस व्यक्ति को बहुत ही अच्छे परिणाम देखने को मिलेंगे

वीर्य से जुडी समस्या में चन्द्रप्रभा वटी के फायदे

अक्सर कई लोगो को वीर्य से जुडी कई तरह की समस्या होती है इस तरह की समस्या से छुटकारा दिलाने में चन्द्रप्रभा वटी बहुत ही कारगर साबित होती है इसका सेवन करने से स्पर्मकाउंट बढ़ता है और इसके साथ ही शारीरिक कमजोरी होना, शरीर का पीला पड़ना, थोड़ी देर मेहनत के बाद थक जाना, भूख न लगना, आँखों का अंदर धस जाना आदि विकारो में चन्द्रप्रभा वटी बहुत ही फ़ायदेमदं साबित होती है एवं इसके सेवन से स्वप्नदोष की समस्या से भी निजात मिलती है

स्त्रीरोग में चन्द्रप्रभा वटी के फायदे

स्त्री रोग में भी चन्द्रप्रभा वटी बहुत ही फायदेमंद साबित होती है अगर किसी महिला को गर्भाशय का आकार बढ़ना, बार बार गर्भपात होना, गर्भाशय कमजोर होना आदि से जुडी समस्या है तो वो किसी आयुर्वेदाचार्य की सलाह से चन्द्रप्रभा वटी का सेवन कर सकती है इससे गर्भाशय को बल प्राप्त होता है और गर्भाशय से जुडी अन्य समस्या से भी छुटकारा मिलता है

अगर किसी महिला का अधिक संतान या अधिक मैथुन करने के कारण गर्भाधाय कमजोर हो जाता है या मासिक धर्म के दौरान काफी दर्द महसूस होता है अथवा 12 – 13 दिनों तक महिला लगातार रजस्राव रहती है तो इस स्थिति में चन्द्रप्रभा वटी को अशोक घृत वटी अथवा फलघृत वटी के साथ मिलकर सेवन करना चाहिए इससे बेहतर परिणाम मिलेंगे

दर्दनिवारण में चन्द्रप्रभा वटी के फायदे

चन्द्रप्रभा वटी को दर्द निवारक वटी के रूप में भी जाना जाता है क्युकी इसमें यूरिक एसिड को कम करने के तत्व पाए जाते है जिसके कारण यह जोड़ो के दर्द, गठिया दर्द, जोड़ो में सूजन आना, बदन दर्द होना, स्त्रियों के  मासिक धर्म की अनियमितता एवं इसके कारण होने वाले कमर दर्द, पेडू के दर्द आदि से जुडी कई तरह की समस्या से छुटकारा दिलाता है

बवासीर  में चन्द्रप्रभा वटी के फायदे

बवासीर की समस्या लोगो में बहुत ही तेजी से बढ़ रही है व इसके कारण पीड़ित को काफी दर्द सहना पड़ता है यह बेहद दर्दनाक समस्या होती है अगर किसी की बवासीर अथवा पाइल्स की समस्या है तो वो चन्द्रप्रभा वटी का सेवन कर सकता है इसके नियमित सेवन से बवासीर की समस्या से निजात मिलती है

नेत्ररोग में चन्द्रप्रभा वटी के फायदे

आखो से जुडी समस्या में चन्द्रप्रभा वटी को काफी फ़ायदेमदं माना गया है अगर आप आँखों की जलन, आँखों की कमजोरी, आखो ने बार बार पानी आना, आखो के पीलापन आदि जैसी समस्या का सामना कर रहे है तो ऐसे में आप चन्द्रप्रभा वटी का इस्तमाल कर सकते है इसके इस्तमाल से आँखों से जुडी समस्या से छुटकारा मिलता है

मूत्र के साथ वीर्य आना जैसी समस्या

कुछ लोगो को इस तरह की समस्या होती है जिसमे मूत्र त्यागते वक्त वीर्य मूत्र के साथ आ जाता है इस  तरह की समस्या का जल्दी उपयुक्त इलाज करवाना बहुत ही आवश्यक है नहीं तो बादमे इस तरह की समस्या बहुत बड़ी परेशानी का कररण बन सकती है व चन्द्रप्रभा वटी का सेवन करने से इस तरह की समस्या से आपको छुटकारा मिलता है

पथरी होने पर चन्द्रप्रभा वटी के फायदे

आज के समय में पथरी होना एक आम बात हो चुकी है क्युकी पथरी होने के कई कारण होते है पर जब पथरी बढ़ जाती है तो इसके कारण काफी दर्द होने लगता है व पथरी का दर्द असहनीय होता है जिसको सहन करना काफी मुश्किल काम होता है हालांकि इसके  तरह के इलाज भी है जिसे लेकर आप पथरी को बाहर निकाल सकते है व चन्द्रप्रभा वटी का सेवन करने से पथरी टूटकर मूत्रमार्ग से बाहर निकल जाती है इसलिए पथरी की समस्या होने पर भी चन्द्रप्रभा वटी का उपयोग किया जा सकता है

बार बार मूत्र आने की समस्या

मूत्र से शरीर के विषाक्त पदार्थ बाहर निकल जाते है जिससे हमारा शरीर निरोगी रहता है पर अगर बार बार मूत्र आ रहा है तो यह सेहत के लिए बहुत ही खतरनाक साबित हो सकता है क्युकी बार बार मूत्र आने से विषाक्त पदार्थ के साथ शरीर के लिए उपयोगी होने वाले पदार्थ भी मूत्र के साथ बहार आ जाते है जिससे शरीर कमजोर होने लगता है और हम कई तरह की बीमारियों की चपेट में आ सकते है इसलिए अगर बार बार मूत्र आने की समस्या है तो चन्द्रप्रभा वटी का सेवन करना चाहिए इससे आपको काफी लाभ मिलेगा

पीलिया होने पर चन्द्रप्रभा वटी के फायदे

पीलिया की समस्या होने पर शरीर पीला हो जाता है और आखो में भी पीलापन दिखाई देता है साथ ही मरीज के नाख़ून पिले होने लगते है जिससे पीलिया की पहचान की जाती है  समय रहते इसका इलाज किया जाना बहुत जरुरी है  पीलिया होने पर चन्द्रप्रभा वटी बहुत ही फायदेमंद साबित होती है इसका सेवन करने से पीलिया रोग में लाभ मिलेगा

प्रोटेस्ट ग्रंथि बढ़ने पर चन्द्रप्रभा वटी के फायदे

पुरुषो की उम्र के साथ प्रोस्टेट ग्रंथि का आकार भी बढ़ता रहता है ऐसे में पेशाब त्याग करने वक्त काफी दर्द होने की शिकायत रहती है और बार बार पेशाब आता है ऐसे में चन्द्रप्रभा वटी बहुत लाभदायक सिद्ध हो सकती है इसके नियमित सेवन करने से प्रोटेस्ट ग्रंथि के बढ़ने की समस्या को ठीक करता है जिससे पेशाब करते वक्त दर्द होना और बार बार पेशाब आने जैसी समस्या से छुटकारा मिलता है

मोटापा घटाने में चन्द्रप्रभा वटी के फायदे

सही खान पान न होने के कारण अधिकांश लोगो में मोटापे की समस्या होती है यह समय के साथ काफी  गंभीर समस्या हो सकती है अगर समय रहते मोटापे को कम न किया जाये तो बादमे इससे काफी परेशानी हो सकती है चन्द्रप्रभा वटी शरीर के अवांछनीय हिस्से से चर्बी हटाने के लिए काफी उपयोगी साबित होती है इससे मोटापा कम होता है और शरीर  मांसपेशिया भी मजबूत होती है

ल्यूकोरिया होने पर चन्द्रप्रभा वटी के फायदे

ल्यूकोरिया की समस्या महिलाओ में पायी जाती है अधिक गर्मी के कारण या माहवारी के दौरान असावधानी  बरतने से ल्यूकोरिया जैसी समस्या होने का खतरा बढ़ जाता है ऐसे में चन्द्रप्रभा वटी का सेवन करने से काफी फायदा होगा इसके साथ ही साफ सफाई पर भी विशेष ध्यान देना आवश्यक है

चन्द्रप्रभा वटी लेते वक्त सावधानी

अगर आप चन्द्रप्रभा का सेवन करते है तो हमेशा इसका सेवन किसी विशेषज्ञ की सलाह लेकर उसके निर्देशानुसार ही करे तभी आपको इसका पूरा फायदा प्राप्त हो पायेगा व गर्भवती महिलाये या जो स्तनपान करवा रही है वो महिलाये डॉक्टर की सलाह लेकर ही इसका सेवन करे ताकि बादमे किसी तरह की समस्या का सामना न  करना पड़े

चन्द्रप्रभा वटी के घटक

चन्द्रप्रभा वटी में कई तरह के घटक मिलाये जाते है जिससे चन्द्रप्रभा वटी बनकर तैयार होती है इसमें जो जो औषधि और सामग्री मिलाई जाती है वो निम्न प्रकार से है

  • चित्रक छाल
  • वायविडंग
  • कपूर
  • देवदारु
  • छोटी एला
  • नागरमोथा
  • दारू हल्दी
  • पीपल
  • यवक्षार
  • कालीमिर्च
  • वाच
  • धनिया
  • सौंठ
  • चव्य
  • सेंधानमक
  • गजपीपल
  • दंतिमूल
  • निशोथ
  • तेजपत्र

चन्द्रप्रभा वटी का सेवन कैसे करें

अगर आप चन्द्रप्रभा वटी का सेवन करना चाहते है तो इसकी विधि पता होना जररी है आपको सुबह व शाम को 2 – 2 वटी का सेवन दूध या पानी के साथ करना चाहिए इसके साथ ही इसका सेवन करने से पहले आप किसी वैध या आयुर्वेदाचार्य की सलाह अवश्य ले और उनके निर्देशानुसार ही इसका सेवन करें

Calculation – इस आर्टिकल में हमने आपको Chandraprabha Vati Benefits In Hindi के बारे में जानकारी दी है व चन्द्रप्रभा वटी के फायदे और नुकसान आदि के बारे में जानकारी दी है हमे उम्मीद है आपको हमारी बताई जानकारी उपयोगी लगी होगी अगर आपको जानकारी अच्छी लगे तो इसे सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करें और इससे जुड़ा किसी भी तरह का सवाल पूछना चाहे तो आप हमे कमेंट करके बता सकते है

- Advertisement -

Related Articles

Leave A Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Articles