Wednesday, May 18, 2022
HomeBenefits in HindiChyawanprash Benefits In Hindi : च्यवनप्राश से होते है यह फायदे और...

Chyawanprash Benefits In Hindi : च्यवनप्राश से होते है यह फायदे और नुकसान

- Advertisement -

नमस्कार मित्रो आज हम Chyawanprash Benefits In Hindi के बारे में  बताने वाले है अक्सर आप च्यवनप्राश का इस्तमाल करते है तो इससे आपको क्या क्या फायदे और नुकसान हो सकते है एवं इसका इस्तमाल करने का सही तरीका कौनसा होता है इन सब के बारे में हम विस्तृत रूप से जानने वाले है च्यवनप्राश से जुडी जानकारी के लिए आप इस आर्टिकल को ध्यान से पढ़े

Chyawanprash Benefits In Hindi

- Advertisement -

च्यवनप्राश हमारे लिए कई तरह से फायदेमंद माना जाता है इसके इस्तमाल से आप कई  तरह की बीमारियों से भी बचे रहते है एवं च्यवनप्राश का इस्तमाल बच्चो से लेकर बूढ़े व्यक्ति तक कोई भी कर सकता है यह सभी के लिए उतना ही फ़ायदेमदं साबित होता है अक्सर सर्दी के मौसम में इसका सेवन करना अधिक लांभदायक माना जाता है अगर आप च्यवनप्राश का इस्तमाल करते है या करना चाहते है तो पहले Chyawanprash Benefits In Hindi के बारे में जानना जरुरी है

Chyawanprash Benefits In Hindi

Table of Contents

माना जाता है की च्यवनप्राश की खोज च्यवन ऋषि के द्वारा की गयी थी व कुछ लोग यह भी मानते है की च्यवनप्राश की खोज अश्विनी कुमारो के द्वारा च्यवन ऋषि के लिए की गयी थी क्युकी जब च्यवन ऋषि बूढ़े हो गए थे तब उन्होंने अश्विनी कुमारो से एक अच्छी औषधि बनाने का आग्रह किया था ताकि ऋषि अपने यौवन को पुन प्राप्त कर सके इसके लिए अश्विनी कुमारो ने च्यवनप्राश बनाया और इसके इस्तमाल से च्यवन ऋषि को पुनः यौवन प्राप्त हुआ अगर आप च्यवनप्राश का इस्तमाल करते है तो इससे निम्न प्रकार के फायदे हो सकते है

च्यवनप्राश से रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है

यह बहुत ही अच्छा आयुर्वेदिक स्वास्थ्य टॉनिक है जो की हमारे स्वास्थ्य को बनाये रखने में बहुत ही फायदेमंद साबित होता है व इसके नियमित इस्तमाल से शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ने लगती है जिससे हम कई तरह की छोटी बड़ी बीमारियों से बचे रहते है और इसमें आंवला पाया जाता है जिसमे प्रचुर मात्रा में विटामिन सी होता है जो की इम्युनिटी को बढ़ाने में काफी मददगार होता है

तनाव और थकान में च्यवनप्राश के फायदे

हाल में इस भाग दौड़ भरी जिंदगी में हर कोई व्यक्ति तनाव और थकान का शिकार हो जाता है व इससे व्यक्ति को काफी परेशानी भी होती है पर इस तरह की समस्या से बचने के लिए च्यवनप्राश का इस्तमाल काफी फायदेमंद साबित हो सकता है अक्सर कई लोग इस स्थिति में कई पूरक इस्तमाल करते है जिससे शरीर के विषाक्त पदार्थ बाहर निकाले जा सके वही च्यवनप्राश के इस्तमाल से विषाक्त पदार्थ बहार निकल जाते है, दूषित वातावरण और जंक फूड्स आदि से होने वाले नुकसान से भी आप बचे रहते है

बढ़ती उम्र रोकने के लिए च्यवनप्राश के फायदे

च्यवनप्राश में एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते है जिससे उम्र कम दिखती है और यह त्वचा को फ्री रेडिकल्स से होने वाले नुकसान आदि से भी बचाने में मदद करता है प्रतिदिन च्यवनप्राश का सेवन करने से त्वचा पर झुर्रिया पड़ना, बुढ़ापा दिखना, त्वचा रूखी दिखना निम्न तरह की समस्या नहीं होती इसलिए अगर आप जवान और खूबसूरत दिखना चाहते है  तो च्यवनप्राश आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगा

ह्रदय के लिए च्यवनप्राश के फायदे

हाल में अधिकांश लोगो में ह्रदय से जुडी समस्या देखने को मिलती है क्युकी आजकल के खाने में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा अधिक होती है इसके कारण ह्रदय से जुडी बीमारिया होने लगती है पर च्यवनप्राश में ऐसी जड़ी बुटिया मिलाई जाती है जो आपके ह्रदय को स्वास्थ्य रखने में मदद करती है और यह आपके शरीर की गन्दगी को बाहर निकालती है साथ ह्रदय की मांसपेशिया मजबूत करता है एवं दिल की धड़कन को भी नियंत्रित करता है

याददास्त बढ़ाने में च्यवनप्राश के फायदे

अक्सर आपने बच्चो को च्यवनप्राश का सेवन करते हुए देखा होगा क्युकी यह मानसिक शक्ति को बढ़ाने के लिए काफी कारगर साबित होता है इसके सेवन से अनिद्रा, पागलपन, एल्जाइमर रोग जैसी समस्या से छुटकारा मिलता है एवं स्मरण शक्ति बढ़ने लगती है जिससे आप किसी भी चीज को जल्दी याद कर पाएंगे और कोई भी चीज आपको लम्बे समय तक याद रहेगी साथ ही च्यवनप्राश के सेवन से मस्तिष्क बेहतर तरीके से काम करने लगता है

पाचन तंत्र सुधारने में च्यवनप्राश के फायदे

च्यवनप्राश के इस्तमाल से पाचन शक्ति बढ़ती है और इसके सेवन से आमाशय एवं आंतो आदि को  शक्ति मिलती है जिससे या बेहतर तरीके से काम करते है और पाचन सही अच्छे से करते है अगर किसी को पाचन से सम्बंधित समस्या है तो च्यवनप्राश के इस्तमाल से काफी फायदा देखने को मिल सकता है

पेट का कैंसर के खतरे को कम करता है

च्यवनप्राश में सैपोनसिक काफी अच्छी मात्रा में पाया जाता है जिससे पेट में कैंसर होने का खतरा काफी कम होता है जिसके कारण से कई लोग इसका इस्तमाल करना पसंद करते है और यह पेट को अन्य कई प्रकार की बीमारियों से भी बचाने में सहायता करता है

श्वसन प्रणाली के लिए फायदेमंद

च्यवनप्राश का सेवन श्वसन प्रणाली के लिए भी काफी फायदेमंद माना गया है इससे सर्दी जुखाम होने की संभावना कम होती है और इसके नियमित सेवन से खांसी की समस्या से भी छुटकारा मिलता है और इसके सेवन से फेफड़ो को शक्ति मिलती है जिससे वो बेहतर तरीके से कार्य करते है इसलिए जो लोग सांस से जुडी समस्या का सामना कर रहे है या जिन्हे दमे की शिकायत है वो इसका सेवन कर सकते है

त्वचा के लिए च्यवनप्राश के फायदे

च्यवनप्राश का सेवन त्वचा के लिए काफी अच्छा साबित होता है इसमें भरपूर मात्रा में पोषक तत्व और विटामिन सी पाया जाता है जो आपकी त्वचा के लिए काफी अच्छा साबित होगा व इसके सेवन से त्वचा में निखार आता है और त्वचा चमकदार बनती है इसके लिए आपको प्रतिदिन च्यवनप्राश का सेवन करना पड़ता है

त्रिदोष निवारण में चवनप्राश के फायदे

त्रिदोष का अर्थ वात्त, पित्त, कफ होता है व चवनप्राश का सेवन इन तीनो तरह की समस्या में विशेष लाभदायक माना गया है यह त्रिदोष की समस्या से छुटकारा दिलाने में बहुत फायदेमंद साबित होता है यह शरीर के सभी दोषो को संतुलित बनाकर मन और स्वास्थ्य को निरोगी  रखने में सहायता करता है

पुराने रोगो में चवनप्राश के फायदे

चवनप्राश शरीर की कोशिकाओं और उत्तको को रिजनरेशन करने का कार्य करता है व इसके सेवन से पुराने रोगो का भी निदान होता है अगर किसी को पुराना रोग है तो उसे औषधि के साथ ही चवनप्राश का सेवन करना चाहिए इससे रोग जल्दी ठीक हो जाता है

हड्डिया मजबूत बनाने के चवनप्राश के फायदे

शरीर को पर्याप्त पोषण न मिलने के कारण हड्डिया कमजोर होने की संभावना बनी रहती है ऐसे में चवनप्राश का सेवन करने से हड्डियों में कैल्शियम का अवशोषण बढ़ने लगता है जिससे हड्डिया और दन्त मजबूत बनते है

मांसपेशियों के लिए चवनप्राश के फायदे

चवनप्राश में प्रोटीन कम मात्रा में होता है इसके बावजूद यह शरीर में प्रोटीन के संश्लेषण को बढ़ाने में मदद करता है और इसके सेवन से शरीर में मांसपेशियों का पुनः विकास होता है व यह मांसपेशियों को लचीला बनता है जिससे उनके कार्य करने की क्षमता बढ़ जाती है अगर आप

प्रजनन क्षमता बढ़ाने में चवनप्राश के फायदे

महिलाओ के लिए भी चवनप्राश के विशेष फायदे होते है इसके सेवन से प्रजनन क्षमता बढ़ती है और यह मासिक धर्म को नियमित करने में भी बहुत ही फायदेमंद माना गया है वही जो महिलाये गर्भवती है उनके शरीर में चवनप्राश हिमोग्लोबित की मात्रा को बढ़ता है और शरीर में पोषक तत्वों की पूर्ति करता है और खून को साफ़ करने का कार्य करता है

घाव भरने की क्षमता बढ़ाना

आपने देखा होगा की कई लोगो के घाव हो जाने पर महीनो तक वो  नहीं भरते इससे इन्फेक्शन का खतरा काफी बढ़ जाता है पर प्रतिदिन चवनप्राश का सेवन करने से यह घावों को भरने की क्षमता को बढ़ा देता है जिससे किसी भी तरह के घाव होने पर वो जल्दी ठीक हो जाते है

बालो के लिए च्यवनप्राश के फायदे

च्यवनप्राश का सेवन करना बालो के लिए भी बहुत फायदेमंद माना गया है प्रतिदिन इसके सेवन करने से बाल समय से पहले सफ़ेद नहीं होते व बालो का झड़ना भी बंद होता है और बाल काले घने और मजबूत बनते है और आपको बालो की रुसी से भी छुटकारा मिलता है

च्यवनप्राश की खुराक

च्यवनप्राश का सेवन पाचन तंत्र की क्षमता के ऊपर निर्भर करता है उम्र के अनुसार इसे अलग अलग तरह से लेने की सलाह दी जाती है जैसे की

  • 0 – 1 वर्ष के बच्चो को च्यवनप्राश सेवन न कराये जबकि बच्चे की माँ इसका सेवन कर सकती है
  • 1 – 5  वर्ष के बच्चो को आधा चम्मच दे सकते है
  • 6 – 12 साल के बच्च को एक चम्मच दे सकते है
  • 12 वर्ष से अधिक उम्र के बच्चो को एक या दो चम्मच दे सकते है
  • गर्भवती महिलाये आधा चम्मच सेवन कर सकती है

निम्न तरीके से च्यवनप्राश की खुराक दी जाती है इसकी विस्तृत जानकारी के लिए आपको किसी वैध की सलाह लेनी चाहिए और उसके निर्देशानुसार ही च्यवनप्राश का सेवन करना चाहिए

च्यवनप्राश का सेवन कब करें

च्यवनप्राश का इस्तमाल सुबह खाली पेट करना अच्छा होता है वही आप चाहे तो दिन में एक बार या दो बार भी इसका सेवन कर सकते है और हर मौसम में इसका सेवन लाभदायक माना गया है पर सर्दी के मौसम में इसका सेवन करने से विशेष लाभ प्राप्त होता है एवं आप सर्दी जुखाम जैसी समस्या से भी बचे रहते है

च्यवनप्राश बनाने का तरीका

अगर आप घर पर च्यवनप्राश बनाना चाहे तो बहुत ही आसानी से बना सकते है इसके लिए आपको हम जो तरीका और सामग्री बता रहे है उसकी आपको जरुरत पड़ेगी इसके माध्यम से आप च्यवनप्राश बना सकते है

च्यवनप्राश बनाने की सामग्री

  • 2 किलो आंवले
  • 100 ग्राम घी और तिल का तेल
  • 20 ग्राम पीपली
  • 25 ग्राम दालचीनी
  • 10 ग्राम नागकेशर
  • 10 ग्राम तेज के पत्ते
  • 1 ग्राम शुद्ध केशर
  • 10 ग्राम इलाइची छोटी
  • 250 ग्राम शहद
  • चीनी स्वादानुसार
  • गोखरू
  • 25-25 ग्राम शतावरी, बेल, नागरमोथा, लौंग, ब्राह्मी, तुलसी के पत्ते, मुलेठी, जीवन्ती, पुनर्नवा, अश्वगंधा, गिलोय, छोटी इलायची, वसाका, सफेद चंदन, शतावरी और हल्दी की जड़ (उबालने की सामग्री)

च्यवनप्राश बनाने की विधि

आप सभी सामग्री इकठ्ठा कर लेते है तो इसके बाद आती है इसको बनाने की विधि तो इसे बनाने के लिए आपको निम्न प्रोसेस को फॉलो करना होगा

  • सबसे पहले आपको आंवले अच्छे से धो लेने है
  • अब बड़ा बर्तन ले और उसमे 5 लीटर पानी डालकर गर्म कर ले
  • बादमे आपको उबालने की सभी सामग्री पानी में डाल देनी है
  • अब गोखरू को भी किसी साफ़ कपडे में लपेटकर पानी में डाल ले
  • इसे माध्यम आंच पर करीब 2 घंटे पकने दे
  • जब 2 घंटे तक यह पक जाये तो इसे 12 घंटे तक ऐसे ही छोड़ दे
  • अब एक बर्तन लेकर उसमे आंवले डाले कर उसकी गुठलिया निकाल दे
  • अब आपको आंवले मसल कर उसे पल्प के जैसा बना लेना है
  • उसके बाद आपको तिल का तेल और घी डालकर इसे बर्तन में गर्म करना है
  • जब तेल व घी एक साथ गर्म हो जाये तो बादमे आंवले के गूदे इसमें डाल दे और करीब आधा घंटा इसे भून ले
  • एक बात को ध्यान में रखे की यह  प्रक्रिया लोहे की कढ़ाई में ही करे
  • जब यह अच्छे से भून जायेगे तो घी अलग होने लगेगा
  • इसके बाद इसमें गुड़ या चीनी डालकर इसे पकाते रहे
  • इसे आपको अच्छे से मिलाते रहना होगा नहीं तो बादमे यह चिपचिपा हो जायेगा
  • जब यह थोड़ा बहुत गाढ़ा हो जाये तो इसके बाद कुछ समय के लिए गैस को बंद कर दे
  • अब आपको पिप्पली, दालचीनी, तेज पत्ता, नागकेसर, केसर और छोटी इलायची आदि को बारीक़ पीसकर तैयार करना है
  • बादमे आंवले का पेस्ट जब ठंडा हो जाये तो इसमें आप तैयार पावडर को डाल दे
  • इसके साथ ही शहद को भी आप इसमें डाल दे
  • अब आप इस पेस्ट को अच्छी तरह से मिलाकर तैयार कर ले

अब आपका च्यवनप्राश बनकर तैयार हो चूका है इसे आप किसी भी डिब्बे में बंद करके सेवन कर सकते है इस तरह से आप घर पर भी बहुत ही आसानी से च्यवनप्राश बना सकते है

च्यवनप्राश के नुकसान

च्यवनप्राश का सेवन करने से कोई विशेष नुकसान तो नहीं होते पर कुछ समस्या हो सकती है इसलिए आपको इसका सेवन करते वक्त कुछ सावधानी बरतनी जरुरी है जैसे की

👉 अधिक मात्रा में इसका सेवन करने से कुछ लोगो में इसका पाचन नहीं हो पाता उन्हें कम मात्रा में च्यवनप्राश का सेवन करना चाहिए

👉 च्यवनप्राश के सेवन से कुछ लोगो को दस्त की शिकायत हो सकती है

👉  दूध के साथ च्यवनप्राश का सेवन करने से अपच और गैस आदि से जुडी समस्या होने का खतरा हो सकता है यह तब होता है जब आप व्यक्ति दूध के साथ इसका सेवन करता है व इस तरह की समस्या होने पर दूध के साथ च्यवनप्राश का सेवन बंद कर देना चाहिए

👉 कुछ लोगो का मानना है की च्यवनप्राश के सेवन से पेट में जलन होती है पर इसके अन्य दूसरे कारण भी हो सकते है व इस तरह की समस्या होने पर विशेषज्ञ की सलाह लेकर ही च्यवनप्राश  सेवन करें

👉 च्यवनप्राश में चीनी की मात्रा होती है इसलिए जो मधुमेह की समस्या से ग्रसित है उन्हें च्यवनप्राश का सेवन नहीं करना चाहिए और अगर कोई मधुमेह रोगी इसका सेवन करना चाहता है तो पहले डॉक्टर की सलाह ले और उसके निर्देशानुसार ही इसका सेवन करे

👉 इसके अलावा च्यवनप्राश का सेवन करने से लोगो को गैस, उदार वायु, उदार का बढ़ना,  रात में बार बार पेशाब आना, पुरुषो में स्वप्नदोष आदि की समस्या च्यवनप्राश के सेवन से बढ़ सकती है

सबसे अच्छा च्यवनप्राश

मार्किट में आपको कई तरह के अलग अलग कंपनी के च्यवनप्राश देखने को मिल जायेगे ऐसे में हर कोई सोचता है की आखिर सबसे अच्छा च्यवनप्राश कौनसा है तो हम आपको कुछ पॉपुलर च्यवनप्राश के बारे में बता रहे है जो निम्न प्रकार से है

👉 डाबर च्यवनप्राश – यह सबसे अधिक बिकने वाला च्यवनप्राश है और डाबर कंपनी का दावा है की इस च्यवनप्राश से शरीर को अनेक फायदे होते है यह बच्चो से लेकर बूढ़े व्यक्ति तक सभी की इम्युनिटी बढ़ाने में मदद करता है इसके बेहतर परिणाम डाबर च्यवनप्राश का प्रतिदिन सेवन करने से ही प्राप्त होंगे

👉 बैधनाथ च्यवनप्राश – बैधनाथ के  प्रोडक्ट काफी अच्छे साबित होते है और बैधनाथ का च्यवनप्राश अन्य कंपनी के च्यवनप्राश की तुलना में काफी सस्ता होता है जिससे कोई भी इसे खरीद सकता है और यह शरीर को ऊर्जा प्रदान करने में मददगार माना गया है

👉 झंडू च्यवनप्राश – यह च्यवनप्राश सस्ता होने के साथ ही इस कंपनी के शुगर फ्री प्रोडक्ट भी है कंपनी का दावा है की शुगर फ्री प्रोडक्ट बनाते वक्त चीनी का बिलकुल भी इस्तमाल नहीं किया जाता एवं कंपनी का दावा है की झंडू च्यवनप्राश इम्युनिटी बढ़ने के साथ शरीर को आतंरिक ऊर्जा प्रदान करता है

👉 रजवाड़ो च्यवनप्राश – यह भी अन्य च्यवनप्राश की तरह होता है व कंपनी का दावा यह पूर्ण रूप से शाकाहारी है कंपनी के अनुसार यह इम्युनिटी को बढ़ाता है और शारीरिक क्षमता को बढ़ाने में सहायता करता है इसके साथ ही यह तनाव को नियंत्रित करने में भी सहायक है इसे हर मौसम में सेवन किया जा सकता है

Calculation – इस आर्टिकल में हमने आपको Chyawanprash Benefits In Hindi के बारे में जानकारी दी है हमे उम्मीद है आपको हमारी बताई जानकारी उपयोगी लगी होगी अगर आपको जानकारी अच्छी लगे तो इसे सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करें और इससे जुड़ा किसी भी तरह का सवाल पूछना चाहे तो आप कमेंट करके बता सकते है

- Advertisement -

Related Articles

Leave A Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Articles